googlee02265c5a6f1a7c2.html

Category: satire

0

सुना मुख्यमंत्री जी ने ट्रैफ़िक जाम के बॉटलनेक पर रिपोर्ट मांगी है ?

आख़िरकार एक फ़ैसले की ख़बर आ रही है। वो फ़ैसला जो फ़ैसले पर पहुँचने के लिए किया जाता है। ये कि अफ़सर जाएं और पता लगाएं कि दिल्ली की सड़कों पर ट्रैफ़िक में बॉटलनेक्स...

1

हिंदुस्तानी ग्राहक कार ख़रीद का फ़ैसला कैसे करते हैं और इस कार के लिए कैसे किया ?

गाड़ियों की ख़रीद आईपीएल टूर्नामेंट जैसी होती है, जहाँ फ़ाइनल मैच से पहले पता नहीं कितने सेमी फ़ाइनल, क्वार्टर फ़ाइनल और अद्धा फ़ाइनल खेले जाते हैं। टीवी प्रोग्राम में गाड़ियों की जानकारी छान-छान कर...

0

मासूमियत तो जवानी में होती है, बचपन में कहाँ ? मासूमियत का ही तो क़त्लेआम हो रहा है ।

जवान मासूम है। वो अधेड़ उमर के बहकावे में आ जाता है…जवानी का मन बिना झिझक गाय को माँ मान लेता है, उस माँ की रक्षा में भाई की जान भी ले लेता है..पर...

0

राहुल गाँधी को संन्यास लेने के लिए क्यों नहीं धकेल रहा सोशल मीडिया ?

फ़ेसबुक आज के युग का बोधि वृक्ष है इस पर तो किसी को आपत्ति हो नहीं सकती है और अगर है भी तो कौन सा फ़र्क पड़ने वाला है। आपत्ति तो इस बात से...

0

सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए शोभा डे को लिखी खुली चिट्ठी

शोभा जी, प्रणाम। (*अब डियर तो लिख नहीं सकते हैं, क्योंकि डियर बोलने पर मंत्री जी ने दूसरे नेता की भावनाओं को ऐसा थकूच दिया कि डीयर पार्क से भी छिटका छिटका रहता हूँ।...

0

बॉलीवुड में क्यों है रोमांटिक जोड़ों का ओवरडोज़ और असल ज़िंदगी में क्यों पिटते हैं जोड़े ?

अगर आप दिल्ली में कार चलाते हैं और आपके जीवन का एक ही लक्ष्य हो कि ट्रैफ़िक में पागल नहीं होना है तो फिर उसके लिए दो ही तरीक़े हैं – एक तो संगीत...

0

सॉफ़्ट स्टेट से हार्ड स्टेट बनने का व्हाट्सऐप वीडियो आया क्या ? 

हरेक आहट पर लगता है कि तुम हो। हर नोटिफ़िकेशन के साथ भी ऐसा ही लग रहा है मुझे। व्हाट्सऐप मेरा फ़्रेंड-फ़िलॉसफ़र-गाईड है। व्हाट्सऐप के ग्रुप मेरे जीवन के आईटम नंबर हैं, कैटरीना-करीना हैं...

0

देशभक्ति, एटीएम, नोटबंदी, सोशल मीडिया और फ़ुटबॉल में लुधकने का महात्म

स्कूल में खेले जाने वाले फ़ुटबॉल की याद आ रही थी। ये आमतौर पर ज़्यादा होने लगा है आजकल, कि तजुर्बे या उदाहरण से कूद कूद कर एक्सप्रेशन में आ रहे हैं। जिसके पीछे...

0

छलकाए “जाम” गुरुग्राम

“अब कोई भी घटना इतनी निरपेक्ष भी नहीं हो सकती है, अलग अलग भी नहीं, एक दूसरे से सबका संबंध होता है. हर एक घटना में पिछली किसी घटना से पड़ा बीज होता है....

0

बारिश में दिल्ली के ड्राइवर बौरा क्यों जाते हैं ?

क्या आप दिल्ली में रहते हैं ? या रहे हैं ? या फिर कभी आते-जाते रहे हैं ? या टीवी न्यूज़ देखते हैं ? इनमें से कोई भी एक सवाल का जवाब सही है...

googlee02265c5a6f1a7c2.html
%d bloggers like this: