googlee02265c5a6f1a7c2.html

Category: Blog

0

केंद्रीय विद्यालय के सिलेबस में अगड़ों-पिछड़ों पर चैप्टर किसने डाला ?

मैं उस केंद्रीय विद्यालय को भी नहीं पहचान पाया जिसका वीडियो थोड़े दिनों पहले देखा। बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर से आया था ये वीडियो जिसमें कुछ छात्र एक छात्र को पीट रहे थे। स्कूलों में...

0

क्या हौंडा अकॉर्ड हाइब्रिड सही वक़्त पर आई है ?

  हौंडा ने भारत में अपनी नई अकॉर्ड लौंच कर दी है। कार नई है, डिज़ाइन नया है, लुक भी नया है। और सबसे ख़ास बात ये कि ये है अकॉर्ड का हाइब्रिड अवतार...

0

मैं, रामकटोरी, एक बाइकर और दिवाली की एक रात

पता चला है कि ऐ दिल है मुश्किल का थीम अनरिक्विटेड लव है, जिसका हिंदी में जब अर्थ निकालने की कोशिश की तो बड़ा मुश्किल निकला, अप्रतिदत्त। ख़ैर, शब्द भले ही एलियन लगे पर...

0

एकांकी : ये कैसा यज्ञ, ये कैसी आहुति जजमान । 

सबकी आँख पनियाई हुई है। सब ढों-ढों करके खांस रहे हैं। तीन-चार निपट लिए हैं, फर्श पर लोट रहे हैं। महिलाएं साड़ी से मुँह ढंक कर आँख मूंद कर बैठ गई हैं। पुरुषों के...

0

हिपोक्रेसी डेमोक्रेसी – प्रदर्शनीय और दर्शनीय

 एक लाइन बार बार सुनते थे कि गुरू और अभिभावक जो कहें वो करो, जो करें वो मत करो। दरअसल हिप्पोक्रैसी हमारी डेमोक्रेसी का हिप्पोपोटोमस है, दर्शनीय और संग्रहणीय है। एक आदर्श, आदरणीय और...

0

हे प्रभु, बुलेट ट्रेन पर आशंका बढ़ती जा रही है…

भारत जैसे पाखंडी देश में किसी भी मुद्दे पर शोध करना, जानकारी इकट्ठा करना, संवाद करके, अलग-अलग विचारों को सुनना, अपनी धारणा बनाना किसी को भी फ़्रॉयड या चंकी पांडे बना सकता है। और...

0

देशभक्ति, एटीएम, नोटबंदी, सोशल मीडिया और फ़ुटबॉल में लुधकने का महात्म

स्कूल में खेले जाने वाले फ़ुटबॉल की याद आ रही थी। ये आमतौर पर ज़्यादा होने लगा है आजकल, कि तजुर्बे या उदाहरण से कूद कूद कर एक्सप्रेशन में आ रहे हैं। जिसके पीछे...

0

छलकाए “जाम” गुरुग्राम

“अब कोई भी घटना इतनी निरपेक्ष भी नहीं हो सकती है, अलग अलग भी नहीं, एक दूसरे से सबका संबंध होता है. हर एक घटना में पिछली किसी घटना से पड़ा बीज होता है....

0

बारिश में दिल्ली के ड्राइवर बौरा क्यों जाते हैं ?

क्या आप दिल्ली में रहते हैं ? या रहे हैं ? या फिर कभी आते-जाते रहे हैं ? या टीवी न्यूज़ देखते हैं ? इनमें से कोई भी एक सवाल का जवाब सही है...

0

भोलेनाथ के नाम खुली चिट्ठी…

डियर भोलेनाथ, हो सकता है कि आप मुझे जानते हों, इसलिए नहीं कि मैं टीवी पर दिखता हूं, इसलिए क्योंकि आप तो ब्रह्मा-विष्णु-महेश में से एक हैं, तो इसीलिए शायद। बाक़ी जो जनसंख्या है...

googlee02265c5a6f1a7c2.html
%d bloggers like this: