Author: Kranti Sambhav

1

अज़ान और भगवती जागरण वाली बहस के बीच लाउडस्पीकर की रणभूमि बना मेरा गाँव

अज़ान और भगवती जागरण वाली बहस के बीच लाउडस्पीकर की रणभूमि बना मेरा गाँव जो तस्वीर मैंने अभी सबसे पहले लगाई है, उसे देखकर...

0

फ़ेसबुक की दुनिया में सड़कों पर दोस्त बनाता एक बाइकर

हाल फ़िलहाल में बहुत कम ऐसे लोग मिलते हैं जिन्हें देखते ही पहली नज़र में महसूस होता है कि वो इन्सपिरेशनल हैं, जिनकी कहानी...

0

कई साल बाद जब मैं गाँव गया …पार्ट -२

“बड़ों को संदेश देती मधुबनी की सातवीं क्लास की कवयित्री” कई बार कविता के बोल मज़बूत होते हैं और कविता पढ़ने का तरीक़ा भी।...

0

कई साल बाद जब मैं अपने गाँव गया …

पार्ट-1 :“स्टॉपओवर पटना- अपने गृहनगर में टूरिस्ट” मेरा गाँव पटना के पास नहीं। पटना से दूर है। लगभग एक सौ सत्तर-अस्सी किलोमीटर दूर, मधुबनी...

0

तो बलीनो RS की ड्राइव के वक़्त मेरा हार्ट-रेट क्यों नहीं बढ़ा ?

इस सवाल का जन्म हुआ था उस फ़िटनेस बैंड के साथ जो सुबह सुबह मेरी कलाई पर बाँधा गया था। जब मैं पहुँचा था...

0

राहुल गाँधी को संन्यास लेने के लिए क्यों नहीं धकेल रहा सोशल मीडिया ?

फ़ेसबुक आज के युग का बोधि वृक्ष है इस पर तो किसी को आपत्ति हो नहीं सकती है और अगर है भी तो कौन...

0

सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए शोभा डे को लिखी खुली चिट्ठी

शोभा जी, प्रणाम। (*अब डियर तो लिख नहीं सकते हैं, क्योंकि डियर बोलने पर मंत्री जी ने दूसरे नेता की भावनाओं को ऐसा थकूच...

%d bloggers like this: