googlee02265c5a6f1a7c2.html

Author: Kranti Sambhav

0

क्या कारवाले हैं फसाद की जड़ ?

पंद्रह दिन के एक-एक घंटे को टटोल टटोल कर मत काटिए…नतीजा नाटकीय नहीं होने जा रहा है, ना तो उतना सकारात्मक जितनी उम्मीद आपिस्ट कर रहे हैं और ना नकारात्मक जैसी मोदीस्ट उम्मीद कर...

क्या वाकई मर्सेडीज़ कुचला गया सिद्धार्थ … 0

क्या वाकई मर्सेडीज़ कुचला गया सिद्धार्थ …

सब सीसीटीवी कैमरे के सामने हुआ था, जो बार बार टीवी चैनलों पर देखा गया था । कैसे सड़क पार करता सिद्धार्थ एक बेतहाशा आ रही ग्रे रंग की पुरानी मर्सेडीज़ कार की चपेट...

दर्द-ए-दिल्ली: क्या ये दुस्साहस कर पाएंगे केजरीवाल ?  0

दर्द-ए-दिल्ली: क्या ये दुस्साहस कर पाएंगे केजरीवाल ? 

बिना किसी भूमिका के एक सवाल उछाल रहा हूं मैं दिल्ली के सीएम की तरफ़, वैसे उसमें एक चैलेंज का भी फ़्लेवर तो है। या कहें कि दोनों के बीच के भाव के साथ...

ऑड और ईवन: प्रदूषण का प्रेत और ट्रैफ़िक का चुटकुला  0

ऑड और ईवन: प्रदूषण का प्रेत और ट्रैफ़िक का चुटकुला 

चलिए कार्यक्रम ये है कि शुरूआत मुहावरे से करता हूं और अंत चुटकुले से करूंगा । बीच में भी कुछ लिखूंगा। कुछ ऐसा नहीं जिससे दुनिया बदलेगी, उससे दिल्ली भी नहीं बदलेगी। कॉलोनी-मोहल्ला क्या...

0

स्कूटरनामा

हर बारिश के मौसम में मेरी दोस्ती होती थी विजय से। वो मौसम, जिसमें एशिया की सबसे बड़ी कॉलनी कहे जाने वाले पटना के बहुगर्वित कंकड़बाग कॉलनी का ट्रांसफ़ॉर्मेशन होता था, एशिया की सबसे बड़ी...

0

अगर अाप चकित नहीं हो रहे तो फिर चेकअप की ज़रूरत है…

  भूमिका पार्ट-1: चकित होने का भाव कैसे आता है ? मेरे हिसाब से ये प्रोसेस कुछ ऐसा होता है…मन को कुछ अच्छा लगता है, जिसे वो चुनता है और फिर उस चाकित्य के...

googlee02265c5a6f1a7c2.html
%d bloggers like this: